म्योर उत्तराखंड ब्लॉग सेवा ...

दैनिक समाचार एवं सूचना . . .

आइये, जाने, समझें और जुडें अपने पहाड़ से, अपने उत्तराखण्ड से . . .

Tuesday, September 3, 2013

Kumaon University Nainital B.Ed entrance exam test result 2012

11 comments:

  1. Graphic designing course Dehradun
    Visual computerization is one of the most pursued profession disciplines accessible for adolescents. It offers a fantastic scope of profession choices to optimistic people who wish to become showbiz royalty with their vocation. Throughout the long term, the field of visual communication has seen an emotional change that has opened new development roads for originators. From innovative headways to inventive updates, planners today have more choices with regards to convey a dazzling realistic component.

    ReplyDelete
  2. Best written coaching for AFCAT in Dehradun
    Flying corps Common Aptitude Test is led by the Indian Air power for section into the Flying, specialized and Ground obligation parts of the Indian Air power as Commissioned Officers. An official in the Indian Air compel, you are satisfactorily prepared to plan through viable preparation and putting together, ideally use the assets available to you and consistently lead through close to home model.

    ReplyDelete
  3. Navgraha puja services

    The wearing of jewelry made of amethyst is recommended to those suffering from addiction to alcohol or any other chemical dependence. Wearing purple in its diverse hues and colors including lilac, lavender as well as violet, burgundy, magenta, and plum can assist us in separating from our tense emotions which could blind us to the true purpose of our religion. It may help relieve self-sufficiency and transmute the urge to escape daily stressors by allowing them to be awake to the voice of their God-given self within. Purple is often thought of as a colour of self-confidence, by virtue of following our Heavenly calling rather than others calls.

    ReplyDelete
  4. I really enjoyed reading your blog. I hope to get more blog posts like this in future too.

    I have also written a blog.. Best Gujarati Recipes

    ReplyDelete
  5. Thank you for your very good information... everything is written in detail.

    Thanks for sharing

    Visit us also Mt. Everest Base Camp Trek

    ReplyDelete

कृपया यहाँ खोजे

सुन्दर अल्मोड़ा, शिक्षित अल्मोड़ा,जानियें अपने शहर के बारें में और भी बहुत कुछ .....

अल्मोड़ा, उत्तराखंड देवताओं की धरती ‘देवभूमि’

इतिहास


आज के इतिहासकारों की मान्यता है कि सन् १५६३ ई. में चंदवंश के राजा बालो कल्याणचंद ने आलमनगर के नाम से इस नगर को बसाया था। चंदवंश की पहले राजधानी चम्पावत थी। कल्याणचंद ने इस स्थान के महत्व को भली-भाँति समझा। तभी उन्होंने चम्पावत से बदलकर इस आलमनगर (अल्मोड़ा) को अपनी राजधानी बनाया।

सन् १५६३ से लेकर १७९० ई. तक अल्मोड़ा का धार्मिक भौगोलिक और ऐतिहासिक महत्व कई दिशाओं में अग्रणीय रहा। इसी बीच कई महत्वपूर्ण ऐतिहासिक एवं राजनैतिक घटनाएँ भी घटीं। साहित्यिक एवं सांस्कृतिक दृष्टियों से भी अल्मोड़ा सम्स्त कुमाऊँ अंचल का प्रतिनिधित्व करता रहा।

सन् १७९० ई. से गोरखाओं का आक्रमण कुमाऊँ अंचल में होने लगा था। गोरखाओं ने कुमाऊँ तथा गढ़वाल पर आक्रमण ही नहीं किया बल्कि अपना राज्य भी स्थापित किया। सन् १८१६ ई. में अंग्रेजो की मदद से गोरखा पराजित हुए और इस क्षेत्र में अंग्रेजों का राज्य स्थापित हो गया।

स्वतंत्रता की लड़ाई में भी अल्मोड़ा के विशेष योगदान रहा है। शिक्षा, कला एवं संस्कृति के उत्थान में अल्मोड़ा का विशेष हाथ रहा है।

कुमाऊँनी संस्कृति की असली छाप अल्मोड़ा में ही मिलती है - अत: कुमाऊँ के सभी नगरों में अल्मोड़ा ही सभी दृष्टियों से बड़ा है।




हमारी संस्कृति

हमारी संस्कृति
हर औरत का गहना उसका श्रींगार

नंदा देवी अल्मोड़ा

नंदा देवी अल्मोड़ा
नंदा देवी अल्मोड़ा

बौध मंदिर देहरादून

बौध मंदिर देहरादून
बौध मंदिर देहरादून

राम झुला ऋषिकेश

राम झुला ऋषिकेश
राम झुला ऋषिकेश

फोटो गैलेरी

1 2 3 4 5 6 7 8 9 ... «Previous Next»

सौंदर्य को देखने के लिए संवेदनशीलता चाहिए । प्रकृति में सौंदर्य भरा पड़ा है ।...

चलो अल्मोड़ा चलें ...
प्राकर्तिक सौंदर्य एवं सुन्दरता की एक झलक


मौसम का सुन्दर नजारा


छोलिया नृत्य - इस अंचल का सबसे अधिक चहेता नृत्य 'छौलिया' है


"चितय गोल ज्यू कुमाऊं में न्याय देवता के रूप में पूजे जाते हैं गोल ज्यू"


कोणार्क के सूर्य मन्दिर के बाद कटारमल का यह सूर्य मन्दिर दर्शनीय है.


देवभूमि के ऐसे ही रमणीय स्थानों में बाबा नीम करोली महाराज का कैची धाम है.


जागेश्वर उत्तराखंड का मशहूर तीर्थस्थान माना जाता है। यहां पे 8 वीं सदी के बने 124 शिव मंदिरों का समूह है जो अपने शिल्प के लिये खासे मशहूर हैं। इस स्थान में सावन के महीने में शिव की पूजा करना अच्छा माना जाता है। अल्मोड़ा से जागेश्वर की दूरी लगभग 34 किमी. की है।http://images.travelpod.com/users/kailashi/2.1230046200.jageshwar-temple.jpg

http://images.travelpod.com/users/kailashi/2.1230046200.deodar.jpg
अल्मोड़ा की प्रसिद्ध परंपरागत बाल मिठाई.


यह मशहूर “सिंगोड़ी” (अल्मोड़ा की एक प्रसिद्ध मिठाई)
ये एक तरह का पेडा होता है जिसे मावे से बनाया जाता है। फोटो में आप जो पान जैसी मिठाई देख रहे हैं वही है सिंगोड़ी। दरअसल इस मिठाई की खासियत ये है कि इसे सिंगोड़ी के पत्ते में लपेटकर रखा जाता है।
इस मिठाई को बनाने के लिए पेडे को नौ से दस घंटे तक पत्ते में लपेट कर रखा जाता है।जिसके बाद पत्ते की खुशबु पेडे में आ जाती है। यही खुशबु इस मिठाई की पहचान है।


विश्वविद्यालय से न्यू इन्द्र कालोनी खत्याड़ी अल्मोड़ा का परिद्रिश्य.


"इन्द्रधनुस" सुरूज की किरण जब पानी की बूंद लेकर के गुजरे तब वो किरण अपने सात रंग की छटा ले इन्द्रधनुस के रूप में उभरती है | यह अदभुत नजारा देखें बिना आप नहीं रह सकते |

मुख पृष्ठ | पहाड़-खबर | हाई अलर्ट | शेयर बाजार | चुनाव|व्यापार | आईटी | युद्ध की आहट| चुनाव | मंडी | देशभर की | और भी बहुत कुछ